होम अन्य खबरें महिलाओ के चरम आनंद की प्राप्ति का मार्ग, क्या और कहाँ होता...

महिलाओ के चरम आनंद की प्राप्ति का मार्ग, क्या और कहाँ होता है ये स्पॉट (G Spot)….

G Spot

संक्षिप्त विवरण
कहाँ होता है स्त्री के शरीर में मौजूद जी स्पॉट जिसके स्पर्श मात्र से महिला हो जाती है अत्यधिक उत्तेजित। आधे से अधिक मर्दों को जानकारी ही नहीं है औरतों के शरीर में मौजूद इस स्थान के बारे में।

India 24×7 News: जी स्पॉट (G Spot) का मतलब आसान भाषा में समझने की कोशिश करे तो महिलाओ के शरीर की वो जगह जो महिला को चरम सुख का अनुभव करा सकती है। साल 1950 में जर्मन के गाएनकोलॉजिस्ट अर्न्स्ट ग्रेफेनबर्ग ने जी-स्पॉट के बारे में बताया था. ग्रेफेनबर्ग के नाम के पहले अक्षर के आधार पर ही इसे जी स्पॉट नाम दिया गया था। जी स्पॉट को लेकर अलग अलग विशेषज्ञों की अलग अलग अवधारणा है।

Book Flight and Hotel at Low Cost

अगर सभी विशेषज्ञों की बातों का अध्धयन किया जाए तो सभी का ये मानना है की वेजाइना या योनि के ऊपर बाहर की तरफ एक छोटा सा मांस का टुकड़ा होता है जिसे क्लाइटोरिस कहा जाता है। इस हिस्से में अत्यधिक संवेदना होती है इसे ही जी स्पॉट कहा जाता है और यदि इस हिस्से को किसी भी तरह से छू लिया जाता है तो महिला को चरम सुख का अनुभव होता है और वो सेक्स का आनंद भी लेती है।

देश के एक और सीनियर सेक्सपर्ट डॉक्टर प्रकाश कोठारी कहते हैं कि ‘जी-स्पॉट’ या ग्राफेनबर्ग-स्पॉट महिलाओं के प्राइवेट पार्ट में एक ऐसी जगह होती है, जहां कहते हैं कि सेंसिटिविटी ज्यादा होती है। यह स्पॉट प्राइवेट पार्ट की दीवार के ऊपरी हिस्से में करीब 1.5 या 2 इंच की गहराई पर होता है। वहां आगे-पीछे या दाएं-बाएं अंगुली घुमाने पर ‘जी-स्पॉट’ का पता चल जाता है, क्योंकि उस जगह उंगली के स्पर्श से कुछ स्त्रियों को ज्यादा ही उत्तेजना का अहसास होता है।

उत्तेजना बढ़ने पर यह ‘जी-स्पॉट’ एक छोटी-सी गांठ की तरह फूल कर थोड़ा-बहुत कठोर भी हो जाता है। इससे उत्तेजना में इजाफा होता है। लेकिन साथ-ही-साथ क्लिटोरिस को भी सहलाया जाए तो औरत को ज्यादा आनंद और उत्तेजना का अहसास होता है।

Advertisement

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें