होम अन्य खबरें झारखण्ड में विधायकों की खरीद फरोख्त के डर से विधायकों को रांची...

झारखण्ड में विधायकों की खरीद फरोख्त के डर से विधायकों को रांची भेजा

Shibu Soren

झारखण्ड राज्य सियासी उठापटक के आसार बनते जा रहे हैं। जिसके चलते यूपीए ने अपने विधायकों को सुरक्षित रखने की कवायद शुरू कर दी है। इसी के तहत झारखंड के कई यूपीए विधायक रांची से रायपुर पहुंचे हैं।

झारखंड में सियासी उठापटक के बीच मंगलवार को महागठबंधन के कई विधायकों को रांची से रायुपर भेजा गया है। सभी विधायक रायपुर के मेफेयर रिसॉर्ट में रुके है। इस रिसॉर्ट में सभी 47 कमरों को बुक किया है। चर्चा है कि चुनाव आयोग ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को अयोग्य ठहराने की सिफारिश राजभवन भेजी है, जिसके बाद राज्य में राजनीतिक उथल-पुथल शुरू हुई है।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन खुद सभी विधायकों को अपने आवास से दो बसों में लेकर रांची एयरपोर्ट पहुंचे थे, जहां से सभी विधायक रायपुर पहुंचे हैं। बता दें कि, झारखंड में महागठबंधन की सरकार है, जिसमें झारखंड मुक्ति मोर्चा, कांग्रेस और राष्ट्रीय जनता दल शामिल हैं। झारखंड मुक्ति मोर्चा ने दावा किया है कि उनके पास 50 से ज्यादा नंबर हैं और चिंता की बात नहीं

झारखंड मामले में छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का ब्यान

छत्तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने झारखंड के सियासी संकट पर बड़ा बयान दिया है। मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल ने हिमाचल प्रदेश दौरे पर रवाना होने से पहले कहा कि भारतीय जनता पार्टी जिस तरह से हार्स ट्रेडिंग कर रही है। पश्चिम बंगाल में तीन विधायक पकड़े गए थे। और अभी भी चर्चा है कि चुनाव आयोग ने कोई पत्र दिया है, और एक सप्ताह हो गया है राजभवन ने अभी तक चुनाव आयोग की चिट्ठी नहीं देखी है यानी कुछ योजना बनाई जा रही है। झारखंड के मुख्‍यमंत्री हेमत सोरेन आज रायपुर आएंगे।

वहीं, झारखंड के विधायक रायपुर आए हैं। इसका मतलब यह भी हो सकता है कि भीतर खाने में कुछ पक रहा है। ऐसी स्थिति के कारण विधायकों की सुरक्षा के लिए वो छत्तीसगढ़ में आए हैं और यहां के रिसार्ट में रुके हैं।


English News

Advertisement

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें