होम फिल्मी खबरें Gehraiyaan Movie Review : दौड़ती हुई ज़िन्दगी में उलझे रिश्तों की कहानी...

Gehraiyaan Movie Review : दौड़ती हुई ज़िन्दगी में उलझे रिश्तों की कहानी बयां करती दीपिका पादुकोण और सिद्धांत चतुर्वेदी की ‘गहराइयां’

Gehraiyaan Movie Review
Gehraiyaan Movie Review

दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone), सिद्धांत चतुर्वेदी (Siddhant Caturvedi), धैर्य कारवा (Dhairya Karwa) और अनन्या पांडे (Ananya Pandey) स्टारर गहराइयां आज यानी 11 फरवरी को 3 स्टार्सरिलीज हो चुकी है. शकुन बत्रा (Shakun Batra) की ‘गहराइयां’ उलझे हुए रिश्तों की कहानी है.
पहले भी निर्देशक शकुन बत्रा (Gehraiyaan Director Shakun Batra) रिश्तों पर आधारित फिल्में बना चुके हैं जैसे ‘कपूर एंड सन्स’ (Kapoor and Sons) और एक मैं और एक तू (EK Mai Aur Ek Tu). इस बार शकुन बत्रा अपनी फिल्म में कुछ अलग ढंग से किरदारों को पेश कर रहे हैं.

क्या है गहराइयां की कहानी

फिल्म ‘गहराइयां’ की कहानी में चार मेन किरदार हैं अलीशा खन्ना (दीपिका पादुकोण), टिया खन्ना (अनन्या पांडे), ज़ैन (सिद्धांत चतुर्वेदी) और करण अरोड़ा (घैर्या करवा). इन चारों के इर्द गिर्द कहानी घूमती है। अलीशा और टिया दो ऐसी कजिन सिस्टर्स हैं जिनके बीच में बहुत अच्छा बॉन्ड है. लेकिन इन दोनों के बीच बड़ा फाइनेंशियल गैप है। अलीशा और करण रिलेशनशिप में हैं। वहीं टिया की मुलाकात ज़ैन से होती है, बाद में दोनों एक दूसरे को पसंद करते हैं और डेट करने लगते हैं. ऐसे में एक दिन टिया और ज़ैन अलीशा और करण से मिलते हैं. चारों साथ में खूब घूमते फिरते औऱ टाइम स्पेंड करते हैं. लेकिन इस बीच ज़ैन और अलीशा एक दूसरे के करीब आ जाते हैं. इतना ही नहीं एक दूसरे को डेट भी करने लगते हैं। अब दोनों के रिश्ते अपने अपने पार्टनर से खराब होने लगते हैं. यहां टिया- ज़ैन और करण- अलीशा के बीच दूरियां आने लगती हैं, अट्रैक्शन खत्म हो जाता है।

इसके अलावा भी इन चारों के बीच कुछ और दिक्कतें हैं. कहानी उस वक्त बहुत इंट्रस्टिंग मोड ले लेती है जब टिया औऱ करण को सच पता चलता है. क्या होगा जब अलीशा औऱ ज़ैन की सच्चाई इन दोनों के सामने आएगी? ये है गहराइयां फिल्म की कहानी. कहानी से बेशक कुछ कुछ अंदाजे लगाए जा सकते हैं लेकिन फिल्म का क्लाइमेक्स कुछ हटकर है. जिसके बारे में सोचा भी नहीं जा सकता.

क्यों देखें ये फिल्म
बड़ी कास्ट वाली इस फिल्म को वीकेंड पर देखना तो बनता है. हां लेकिन अगर आप गंभीर किस्म की फिल्में देखना पसंद नहीं करते तो शायद ये फिल्म आपके लिए न हो. लेकिन अगर नई जनरेशन की जिंदगी में क्या चल रहा है, करीब से ये जानना चाहते हैं तो फिल्म गहराइयां जरूर देखें.

Advertisement

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें