होम खेल अंतराष्ट्रीय खेल संगठनों को मान्यता देने वाला संघ GAISF होगा भंग

अंतराष्ट्रीय खेल संगठनों को मान्यता देने वाला संघ GAISF होगा भंग

इंडिया 24×7 न्यूज़: ग्लोबल एसोसिएशन ऑफ इंटरनेशनल स्पोर्ट्स फेडरेशन (Global Association of International Sport Association – GAISF) अगले साल भंग होने वाला है। GAISF के सदस्यों को लिखे एक पत्र में, नव-निर्वाचित राष्ट्रपति इवो फेरियानी ने पुष्टि की कि ओलंपिक और गैर-ओलंपिक खेलों के मुख्य संगठन को भंग करने का प्रस्ताव मई में इसकी महासभा में एजेंडे में होगा।

इनसाइडगेम्स ने गैस्फ के अनुसार GAISF के दो सदस्यों ने इसकी पुष्टि की है, इतना ही नहीं इस संबंध में जो पत्र सदस्य संगठनों को जारी किया है उसका कुछ हिस्सा भी विश्व भर वायरल हो रहा है। हालांकि आधिकारिक तौर पर GAISF ने इसकी पुष्टि नहीं की है।

GAISF letter

GIASF के वर्तमान अध्यक्ष फेरियानी ने पत्र में लिखा, “एजेंडे पर एक विषय जो मैं पहले से ही आपके ध्यान में लाना चाहूंगा, वह है GAISF का विघटन, जैसा कि GAISF के अध्यक्ष के रूप में मेरे आगमन से पहले ही चर्चा की जा चुकी है।”

ऐसा माना जा रहा है कि भंग करने की प्रक्रिया के लिए पांच सदस्यीय कार्यबल बनाया गया है, यह उन सभी खेल संगठनों के लिए चिंता का विषय है जो अपने विकास के लिए GAISF पर निर्भर हैं।

आपको बता दें की अंतरराष्ट्रीय ओल्य्म्पिक समिति से मान्यता प्राप्त करना अपने आप में एक बेहद जटिल और लम्बी प्रकिर्या है। जबकि GAISF उस सभी संगठनों को मान्यता देता है जो कम से जिसके कम 40 देशों में सदस्य या सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त हों। यदि आपके पास 40 देशों की मान्यता ना भी हो तो और गैस्फ को लगता है की कोई खेल संगठन अगले कुछ समय में 40 के आंकड़े तक पहुंच सकता है तो ऐसे अंतरराष्ट्रीय खेल संगठन को 2 वर्ष के लिए “आब्जर्वर स्टेटस” में रखा जाता है। इन दो वर्षों में गैस्फ के सहयोग से खेल संगठन अन्य देशों में अपने खेल को विकसित करने और उस देश की सरकार या ओलिंपिक संघ की मान्यता प्राप्त करने की कोशिश करते हैं। यदि खेल संगठन इन दो वर्षो में 40 के आंकड़े तक पहुंच जाते हैं तो उसे GAISF की पूर्ण सदस्य्ता दे दी जाती है।

हालांकि “आब्जर्वर स्टेटस” से पूर्ण सद्स्य्ता की प्रक्रिया भी आसान नहीं है लेकिन GAISF द्वारा “आब्जर्वर स्टेटस” मिलने से दूसरे अन्य देशों में खेल का प्रचार प्रसार करना आसान हो जाता है। इतना ही पिछले कुछ महीनो में ऐसा भी देखा गया की GAISF द्वारा जिन खेल संगठनों को “आब्जर्वर स्टेटस” गया था उन संगठनों के साथ ओलिंपिक टीवी ने प्रसारण का अनुबंध किया तथा अंतर्राष्ट्रीय स्कूल खेल संगठन ने भी कुछ खेलों को स्कूल गेम्स में शामिल किया।

कुल मिलाकर GAISF उन सभी खेल संगठनों के लिए लाभकारी है जो खेल तेज़ी से विकास कर तो रहे हैं लेकिन अंतर्राष्ट्रीय ओलिंपिक की मान्यता से अभी दूर हैं

आपकी जानकारी के लिए बता दें की GAISF “आब्जर्वर स्टेटस” की लिस्ट में पिछले दो वर्षों में कुछ खेल शामिल किये गए जो इस प्रकार हैं:

1. वर्ल्ड डॉजबॉल एसोसिएशन

2. फेडरेशन फॉर इंटरनेशनल फुटगोल्फ

3. इंटरनेशनल यूनियन ऑफ़ केटलबेल लिफ्टिंग

4. इंटरनेशनल फेडरेशन ऑफ़ मैच पोकर

5. इंटरनेशनल पोल स्पोर्ट फेडरेशन

6. इंटरनेशनल टेबल सॉकर फेडरेशन

7. इंटरनेशनल रग्बी लीग

8. इंटरनेशनल पेडल फेडरेशन

9. इंटरनेशनल जम्प रोप यूनियन

10. इंटरनेशनल राफ्टिंग यूनियन

11. वर्ल्ड ऑब्स्टेकले

उक्त सभी खेल संगठनों के लिए GAISF को भंग किया जाना बेहद चिंता का विषय है।

GAISF भंग करने के क्या हैं कारण के पीछे तीन मुख्य कारण माने जाते हैं

ओलिंपिक समीति ने कुल 62 खेलों को मान्यता दी है जबकि GIASF के सदस्य संगठनों की संख्या 134 है। GAISF का अध्यक्ष SPORT ACCORD नामक संगठन का भी अध्यक्ष होता है, यह संगठन हर वर्ष WORLD SPORT AND BUSINESS SUMMIT का आयोजन करता है जिसमे ओलिंपिक अध्यक्ष तथा विश्वभर से 1000 खेल और सम्बंधित संगठनों के 1500 लोग भाग लेते हैं। खेलों की दुनिया का यह सबसे महत्वपूर्ण शिखर सम्मलेन माना जाता है जिसमे खेल दुनिया के बड़े दिग्गज हिस्सा लेते हैं।

समानांतर खेलों का आयोजन

world urban games
world-mind-games
world-combat-games

GAISF द्वारा खेलों का आयोजन: दूसरा बड़ा कारण है GAISF द्वारा आयोजित किए जाने वाले खेल। पिछले कुछ वर्षों में GAISF द्वारा अंतरराष्ट्रीय खेलों का आयोजन शुरू किया जो ओलिंपिक खेलों के महत्व को कम कर सकता है। वर्ल्ड अर्बन गेम्स, वर्ल्ड माइंड गेम्स और वर्ल्ड कॉम्बैट गेम्स का आयोजन हाल में शुरू किया है। संभावना है कि इन खेलों की बढ़ती लोगप्रियता से ओलिंपिक खेलों का महत्व कम हो सकता है और इससे ओलिंपिक समिति की कमाई पर भी फर्क पड़ सकता है जो ओलिंपिक के लिए खतरे की घंटी है।

अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति का दबाव

IOC President

तीसरा और सबसे बड़ा कारण : जैसा की हमने पहले ही कहा की GAISF की बढ़ती ताकत इस संगठन को भंग किए जाने की वजह है इसका उदाहरण 2015 को देखने को मिला। उस समय Sport Accord के तत्कालीन अध्यक्ष मारियस विज़ेर ने अपने भाषण के दौरान अंतरराष्ट्रीय ओलिंपिक समिति और उसके अध्यक्ष थॉमस बाच पर हमला किया। यह संगठन के बढ़ते प्रभाव का ही असर था की विश्व के सबसे बढ़े खेल संगठन और दुनिया के प्रभावशाली व्यक्ति पर मारियस विज़ेर ने अपने शब्दों से हमला किया, हालांकि बाद में उन्हें अध्यक्ष पद से त्यागपत्र देना पड़ा। यही वह समय था जब GAISF को खत्म करने की नीव पड़ी। इंतज़ार था तो सिर्फ सही समय और सही कारण का।

हालांकि पिछले 6 वर्षों में इस संगठन ने अपना प्रभाव बढ़ाया ही है लेकिन कौन जानता था कि यही बढ़ता प्रभाव एक दिन इस संगठन की अस्त होने का कारण बनेगा।

Advertisement

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें