पंजाब मुख्यमंत्री चन्नी ने केजरीवाल पर लगे गंभीर आरोपों की जांच की मांग की

शुभम: पंजाब के मुख्यमंत्री चन्नी ने प्रधामंत्री नरेंद्र मोदी से दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ लगे अलगाववाद के आरोपों के जांच की मांग की है। ये मांग होने वाले चुनाव से पहले पंजाब में मचे राजनीतिक बवाल को और बढ़ाने का काम कर सकती है।

अपने मोबाइल पर हमारी एप्प डाउनलोड करें

कहीं आप होटल या फ्लाइट के लिए ज़्यादा पैसा तो नहीं दे रहे, यहाँ देखें

पंजाब में चुनाव से पहले सभी राजनीति दल आज अंतिम बार वोटरों को लुभाने का प्रयास करेंगे। 20 फरवरी को होने वाले विधानसभा चुनाव प्रचार आज समाप्त हो जाएगा। चुनाव प्रचार के दौरान पार्टियां और उसके नेतागण अनाप शनाप बयान देने से नहीं कतराते हैं, जहां एक ओर मुख्यमंत्री चन्नी ने “भाईये” शब्द का प्रयोग किया तो वहीं दूसरी ओर खालिस्तान और अलगाववाद की चुनावी एंट्री भी हो गई है।

पंजाब का राजनीतिक पारा पिछले 36 घंटों अपने चरम पर पहुंच गया है, कारण है दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर लगे संगीन आरोप। मशहूर कवि डॉ कुमार विश्वास ने बुधवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री पर पिछले विधानसभा चुनावों में अलगाववादियों से समर्थन लेने का गंभीर आरोप लगाया। विश्वास ने कहा कि “उसने कहा था कि मैं या तो पंजाब का मुख्यमंत्री बनूंगा या स्वतंत्र सूबे (खालिस्तान) का पहला प्रधानमंत्री।” ” ………….. स्वतंत्र देश का पहला प्रधानमंत्री बनूँगा” विश्वास आगे कहते हैं की मैंने उसे अलगाववादियों की मदद लेने से मना किया तो उसने बोला की नहीं नहीं हो जायेगा। गौरतलब है कि कुमार विश्वास आम आदमी पार्टी के संस्थापकों में से एक रहे हैं।

विश्वास के इस बयान के बाद पंजाब की राजनीति में घमासान मचने में देर नहीं लगी। आरोपों का जवाब देते हुए आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता राघव चड्डा ने बयान के टाइमिंग और कुमार विश्वास के विश्वशनीयता पर सवाल उठाया। उनकी टिप्पणियों को “दुर्भावनापूर्ण, निराधार, मनगढ़ंत और भड़काऊ” करार दिया। साथ ही कानूनी कार्रवाई करने की भी बात कही।

कानूनी कार्रवाई पर जवाब देते हुए कुमार विश्वास ने कहा कि “चिंटुओ से कहना औकात हो तो अपने आका को भेजे वो भी समान(सबूत) लाए मैं भी दिखाऊंगा।”

बुधवार को बयान के विरोध में और कुमार के वीडियो को टेलीविजन पर प्रसारित करने से रोकने के लिए आम आदमी पार्टी ने पंजाब चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज कराई। शिकायत के बाद आयोग ने वीडियो प्रसारित करने पर पाबंदी लगा दी थी हालंकि कुछ ही घंटो बाद ये फैसला वापिस ले लिया गया।

मुख्यमंत्री चन्नी ने बाद में पीएम मोदी से कुमार विश्वास द्वारा किए गए दावों की निष्पक्ष जांच का आदेश देने का अनुरोध करते हुए कहा कि पंजाब के लोगों ने अलगाववाद की भारी कीमत चुकाई है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा “पंजाब के सीएम के रूप में, मैं माननीय पीएम @narendramodi जी से @DrKumarVishwas जी के वीडियो के मामले में निष्पक्ष जांच का आदेश देने का अनुरोध करता हूं।”

चुनाव से ठीक पहले इस प्रकार का राजनीतिक घटना क्रम पंजाब में आम आदमी पार्टी को कितना आहत करता है ये तो देखने वाली बात होगी, साथ ही कानूनी कार्रवाई और जांच होती है या ये बस एक राजनीतिक मुद्दा बन कर रह जायेगा ये भी भविष्य के गर्भ में है। फिलहाल पंजाब के विधानसभा चुनावों में 48 घंटे से भी कम का वक्त बचा है और पार्टियां जोर आजमाइश में लगी हुई है।

Advertisement

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें