होम राजनीती पंजाब में भाजपा का बड़ा दाव – क्या कैप्टन अमरिंदर सिंह मानेंगे?

पंजाब में भाजपा का बड़ा दाव – क्या कैप्टन अमरिंदर सिंह मानेंगे?

पंजाब में भाजपा का बड़ा दाव

India 24×7 News: पंजाब में बीते दिनों प्रधानमंत्री मोदी के यात्रा के दौरान हुई चूक से देशभर में हंगामा मच गया था। बीच रास्ते से एयरपोर्ट पहुंचने पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था “अपने सीएम को धन्यवाद कहना कि मैं जिन्दा एयरपोर्ट लौट आया।” प्रधानमंत्री के इन शब्दों ने उनके लिए ज़बरदस्त सहानुभूति का काम किया, देश के विभिन्न हिस्सों में उनके सलामत लौटने पर यज्ञ हवन होने लगे।

भाजपा नेताओं का कहना है की यह कांग्रेस की सोची समझी चाल थी, जबकि मुख्यमंत्री चन्नी ने इससे साफ़ इंकार किया है। लेकिन सच क्या है इसका पता तभी लगेगा जब माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा गठित जांच कमेटी की रिपोर्ट आएगी।

पंजाब में भाजपा का बड़ा दाव

ऐसी जानकारी आ रही है कि भाजपा पंजाब में बड़ा दाव खेलने जा रही है, कहा जा रहा है कि भाजपा अब बदला लेने के मूड में है और पंजाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह की नवगठित पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस और सुखदेव सिंह ढींडसा की पार्टी अकाली दल (संयुक्त) के साथ चुनाव लड़ने जा रही है। बड़ी बात यह है कि भारतीय जनता पार्टी इस बार 60-65 सीटों पर चुनाव लड़ने के मूड में है और 117 में से बाकी बची सीटें कैप्टन और ढींडसा की पार्टिओं को देगी।

भाजपा का पंजाब में कभी कोई बड़ा आधार नहीं रहा और इस राज्य में अधिकतर कांग्रेस और अकाली दल ही सरकारें बनाते आए हैं। पिछले कुछ समय से भाजपा अकाली दल के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही थी। पिछले चुनावों में कुल 117 विधान सभा सीटों में से शिरोमणि अकाली दल बादल 94 सीटों पर लड़े थे जबकि भाजपा को मात्र 23 सीटें दी थी जिसमे से भाजपा को सिर्फ 3 पर ही जीत हासिल हुई थी।

इस बार भाजपा 60-65 यानी आधे से भी अधिक सीटों पर चुनाव लड़ने का मन बना चुकी है, देखना यह होगा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह इतनी सीटों लिए राज़ी होते हैं या नहीं। भाजपा को लगता है कि कैप्टन के पास इन शर्तों को मानने के अलावा कोई रास्ता नहीं है लेकिन कैप्टन भी एक मंझे हुए खिलाड़ी हैं। भाजपा को ज़्यादा सीट देने का मतलब जीतने के बाद भाजपा का ही मुख्यमंत्री बनेगा, इसके लिए शायद कैप्टन त्यार न हों।

प्रधानमंत्री सुरक्षा चूक से भाजपा को फायदा

प्रधानमंत्री सुरक्षा चूक से भाजपा के पक्ष में देशभर में माहौल बना है जिसे भाजपा चुनावों में भुनाएगी लेकिन देखना यह होगा कि क्या पंजाब में भी भाजपा को इसका फायदा मिलेगा? विशेषकर तब जबकि किसान 1 वर्ष से भी ज़्यादा समय तक किसान बिल का विरोध करते रहे और 500 से भी ज़्यादा किसानो की मौत हो गई। इस दौरान भाजपा नेताओं ने इन्हे खालिस्तानी, आतंकवादी और ना जाने क्या क्या कहा। ऐसे में भाजपा को पंजाब में बड़े स्तर पर सीटें निकालना बेहद मुश्किल दिखता है।

आम आदमी पार्टी बनाएगी सरकार?

बहरहाल जो भी हो ये तो तय है कि पंजाब में कड़ा मुक़ाबला होने जा रहा है। जहां एक तरफ भाजपा अपना प्रसार देशभर में करने की कोशिश कर रही है वहीँ आम आदमी पार्टी को भी इस बार पंजाब से बड़ी उमीदें हैं, समय बताएगा कि क्या आम आदमी पार्टी बना पायेगी सरकार ? आम आदमी पार्टी को कमतर आंकना एक बड़ी राजनीतिक भूल होगी।

पिछली बार आम आदमी पार्टी 117 में से 112 सीटों पर लड़ी थी जिसमे से उसने 20 सीटों पर विजय हासिल की थी लेकिन इस बार आम आदमी पार्टी पिछली बार की गयी गलतियों को ना दोहरा कर फूंक फूंक कर कदम रख रही है। हाल ही में फोन द्वारा जनमत सर्वेक्षण के बाद पंजाब में आम आदमी पार्टी का मुख्यमंत्री चेहरा भगवंत सिंह मान की घोषणा की गई, जिसके लिए 22 लाख फोन और मैसेज आए।

भगवंत मान पर किसी तरह का कोई आरोप लगाना भाजपा और कांग्रेस के लिए मुश्किल साबित होगा। एक रिपोर्टर ने जब चन्नी के रिश्तेदार के घर हुई ईडी की राइड पर सवाल पूछा तो भगवंत मान ने कहा कि मेरे यहां ईडी भेजो।

Advertisement

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें