होम अन्य खबरें भदोही: दुर्गा पूजा पंडाल में लगी भीषण आग, 4 की मौत, 64...

भदोही: दुर्गा पूजा पंडाल में लगी भीषण आग, 4 की मौत, 64 से अधिक झुलसे

उत्तर  प्रदेश के भदोही के औराई कोतवाली से कुछ दूर नरथुआं स्थित एकता दुर्गा पूजा पंडाल में रविवार रात आरती के समय भीषण आग लग गई। स्थानीय लोगों और प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, अग्निकांड में एक बालक अंकुश सोनी समेत चार की मौत हो गई और 64 से अधिक लोग झुलस गए। वहीँ वाराणसी के मंडलीय अस्पताल में उपचार के दौरान एक महिला ने भी दम तोड़ दिया है ।

हालांकि प्रशासन के द्वारा  12 वर्षीय बालक समेत दो लोगो की ही मौत की पुष्टि की गयी है। झुलसने वालों में बच्चों और महिलाओं की गिनती ज्यादा हैं। झुलसने वालों को  सीएचसी व निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया। जहाँ से 37 लोगों को वाराणसी रेफर कर दिया गया। इनमें से भी 20 की हालत काफी चिंताजनक है।

अग्निकांड की जानकारी  मिलते ही डीएम-एसपी व अन्य अधिकारी और दमकल टीम घटनास्थल पर पहुंच गई। डीएम गौरांग राठी और एसपी डॉ. अनिल कुमार मौके पर बचाव कार्य की निगरानी करते और जरूरी निर्देश देते नजर आए । थोड़ी देर बाद एडीजी जोन रामकुमार और विंध्याचल कमिश्नर योगेश्वर राम मिश्र भी घटनास्थल पर पहुंचे। डीएम के मुताबिक, ऐसी आशंका की जा रही है कि शार्ट सर्किट होने की वजह से आग लगी है। दमकल टीम को आग पर काबू पाने में एक घंटे से अधिक का समय लग गया।

औराई-भदोही मार्ग पर नरथुआं स्थित एकता क्लब के पंडाल में हर वर्ष नवरात्र के अवसर में काफी बड़ी संख्या में भीड़ इकठ्ठा होती है। रविवार रात भी करीब 150 से अधिक संख्या में लोग पंडाल में मौजूद थे। सभी लोग पंडाल में चल रही आरती में शामिल होकर माता का जयकारा लगा रहे थे।

पंडाल में ही डिजिटल शो भी चल रहा था। इसी दौरान अचानक वहां आग लग गई। जिसे देख कर वहां भगदड़ मच गई। देखते ही देखते थोड़ी ही देर में पूरा पंडाल धू-धूकर जलने लगा। मौके पर लोगों की चीखपुकार मच गई। जिसे जिधर से रास्ता मिला वो उधर से ही भागने लगा।

घायलों को अस्पताल पहुंचाने के लिए 52 एंबुलेंस तुरंत ही मौके पर लगाई गई। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार झुलसने वालों की संख्या 60 से अधिक है। मृतक अंकुर सोनी गांव जेठूपुर औराई का रहने वाला है। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, दो अन्य मृतकों में युवती और एक साल का बच्चा है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिलाधिकारी से हादसे के बारे में जानकारी ली और तत्काल झुलसे लोगों के बेहतर इलाज का प्रबंध करने का आदेश दिया । मुख्यमंत्री ने हादसे के तुरंत बाद राहत कार्य युद्धस्तर पर चलाने के निर्देश दिए। एडीजी जोन रामकुमार ने कहा कि हादसे की जांच के लिए पुलिस-प्रशासन और फोरेंसिक एक्सपर्ट की संयुक्त टीम गठित की जा रही है।

घटना के कारण और लापरवाही के आरोपों की जांच की जाएगी। जो भी दोषी पाया जाएगा उस  पर कार्रवाई की जाएगी।  घटना की जांच के लिए एडीजी राम कुमार ने चार सदस्य एसआईटी गठित कर दी है। इसमें अपर जिलाधिकारी, अपर पुलिस अधीक्षक, एक्सईएन हाईडिल और फायर सेफ्टी ऑफिसर शामिल हैं।

Read Other News

Advertisement

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें