होम पर्यटन खूबसरत पहाड़ियों से घिरा है हिल स्टेशन पंचगनी

खूबसरत पहाड़ियों से घिरा है हिल स्टेशन पंचगनी

खूबसरत पहाड़ियों से घिरा है हिल स्टेशन पंचगनी

संक्षिप्त विवरण
मानसून स्वयं इन पहाड़ी हिल स्टेशन के असली जादू में अतिरिक्त खुशी के रूप में प्रारंभ होता है – यहाँ के पहाड़ जादुई झरनों और सँकरे, छोटी तथा घुमावदार धाराओं से आच्छादित हो जाते हैं।

विस्तृत विवरण
पंचगनी भारत के महाराष्ट्र राज्य में मुंबई के दक्षिण में स्थित एक प्रसिद्ध हिल स्टेशन है, जो 1334 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस हिल स्टेशन का नाम राज्य के सबसे लोकप्रिय जगह में आता है जो अपने मनोरम दृश्यों के लिए जानी जाती है। यह ब्रिटिश और भारतीय पौराणिक अवशेषों के साथ एक ऐतिहासिक भूमि भी है।

पंचगनी कैसे जाएं?
पंचगनी पहुंचने के लिए पुणे, मुंबई, महाबलेश्वर और सतारा से स्टेट बसें चलती हैं। यहां की सड़क अच्छी है और अपनी कार से भी यहां पहुंचा जा सकता है। वैसे तो पंचगनी का निकटतम रेलवे स्टेशन सतारा है लेकिन यहां पहुंचने के लिए लोग पुणे स्टेशन से आना पसंद करते हैं क्योंकि देश के अन्य शहरों से पुणे की कनेक्टिविटी अच्छी है।1

पंचगनी महाबलेश्वर से लगभग 19 किमी दूर है और सभी तरफ से 5 पहाड़ियों से घिरा हुआ है और यही वह तथ्य है जिससे इसका नाम पंच-गनी पड़ा; ‘पंच’ का अर्थ है पाँच और ‘गनी’ का अर्थ है पहाड़ियाँ । यह जगह मुंबई और पुणे जैसे शहरों के भी करीब है

आप पहली बार यात्रा कर रहे हों या हमेशा यात्रा करते हों, पंचगनी की निराली पहाडियाँ सभी को अपनी ओर आकर्षित करती हैं। दूर पहाड़ियों से परे स्वप्न की तरह सूर्यास्त देखना, स्ट्राबेरी तोड़ने के मौसम का आनंद उठाना, आराम से नाव की सवारी करना या अगर आप कुछ और साहसिक कार्य करना चाहते हैं तो पैराग्लाइडिंग करना आदि यहाँ उपलब्ध है और यहाँ आपके विकल्प कभी खत्म नही होंगे!

आप अपने आसपास शांत हरियाली चाहते हैं तो यहाँ अनेक आकर्षण हैं जो आपकी यात्रा के आनंद को और अधिक बढ़ा देंगे। व्यापक धूम बांध वाई गांव के निकट एक प्रमुख नौका विहार स्थल है जहाँ से रमणीय कृष्णा नदी बहती है।

आप प्रकृति प्रेमी हैं, तो शेरबाग जगह आपके लिए है। प्राकृतिक रूप से अच्छी तरह से आरेखित इस परिदृश्य में बच्चों के लिए एक अद्भुत पार्क है जहाँ कई पक्षी, खरगोश, टर्की और हँस रहते हैं। ऐतिहासिक गुफाओं और मंदिरों की विस्तृत सरणी की जाँच करें परंतु भीम चौला (राक्षस की रसोई ) और हरीसन की घाटी को देखना न भूलें।

इतिहास
1860 के दशक में जॉन चेस्सों नामक एक अंग्रेज़ द्वारा खोजै हिल स्टेशन गर्मिओं से बचने के लिए बेहद प्रसिद्ध है लेकिन अब लोग हिल स्टेशन पर सर्दिओं में भी लुत्फ़ उठाने लगे हैं। जॉन चेस्सों ने इस क्षेत्र में पश्चिमी दुनिया के बहुत सारे पौधों की प्रजातियों को लगाया जिसमे सिल्वर ओक एवं पोइंसेत्टिया प्रमुख हैं।

हालांकि गर्मी में महाबलेश्वर लोगों की पसंदीदा जगह थी लेकिन मानसून के दौरान महाबलेश्वर रहने लायक नहीं रह जाता जबकि पंचगनी का मौसम पुरे वर्ष खुशनुमा रहता है। इसलिए इसको अंग्रेजों द्वारा इसे आराम गृह के तौर पर विकसित किया था।

Photo Credit: Belle-Vue Holiday Homes


Advertisement

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें