होम मुख्य खबर अर्नब गोस्वामी ने कांग्रेस पर लगाया हमले का आरोप

अर्नब गोस्वामी ने कांग्रेस पर लगाया हमले का आरोप

अर्णब गोस्वामी

रिपब्लिक टीवी के अर्नब गोस्वामी पर क रात दो मोटरसाइकिल सवार युवकों ने उनकी कार पर कुछ तरल पदार्थ फेंका और गालियां दी। कार में अर्नब गोस्वामी के साथ उनकी बीवी भी मौजूद थी। दोनों युवक अरुण बुरादे और प्रतीक कुमार युवा कांग्रेस के कार्यकर्ता हैं लेकिन स्थानीय पुलिस ने अभी तक इसकी पुष्टि नहीं की है जबकि इन दोनों के फेसबुक पर कांग्रेस संबंधित पोस्ट देखी जा सकती हैं।

अर्नब गोस्वामी ने इस हमले के लिए कांग्रेस अध्यक्ष को ज़िम्मेदार ठहराया है। अर्णब ने कहा की सोनिआ गाँधी ने डरके गुंडे भेजे। सुनिए अर्नब गोस्वामी की ज़बानी >> विडिओ

क्या है असला मामला

पालघर में दो संतों और उनके ड्राइवर की भीड़ द्वारा बेरहमी से मारे जाने को लेकर रिपब्लिक टीवी के मुख्य सम्पादक अर्नब रंजन गोस्वामी ने अपने टीवी के माध्यम से कांग्रेस अध्यक्षा सोनिआ गाँधी पर सीधे तौर पर आपत्तिजनक आरोप लगाए थे।

अर्नब गोस्वामी ने अपने टीवी पर एक बहस के दौरान पूछा की पालघर में हुई संतों की मौत पर सोनिया गाँधी चुप क्यों हैं। अर्णब ने कहा, “…….मैं पूछता हूँ और पूछता है भारत आज, कि आज अगर कोई मौलवियों या पादरिओं को इस तरह मारता तो फिर क्या लोग शांत होते? तो फिर इटली वाली सोनिया गांधी चुप रहती? मैं पूछता हूँ अगर कोई पादरियों की हत्या करता?…….आपकी पार्टी की रोम से आयी हुइ सोनिया गाँधी चुप नहीं रहती, आज वो चुप है, मन ही मन में मुझे लगता है वो खुश हैं, वो खुश हैं की संतो को सड़कों पर मारा गया जहां पर उनकी सरकार है, रिपोर्ट भेजेंगी वो, वो इटली रिपोर्ट भेजेंगी देखिए जहां पे मैंने साकार बना ली वहां पे हिन्दू संतों को मै मरवा रही हूँ। और वहा से वाह वाही मिलेगी उसको शाबाश बहुत अच्छा किया सोनिया गाँधी”

अर्नब गोस्वामी पर मुकदमे दायर

इस ब्यान पर कांग्रेस के नेताओं और कार्यकर्ताओं की तरफ ब्यान ही नहीं आने शुरू बल्कि कई राज्यों में उनके खिलाफ FIR भी दर्ज करवा दी गयी है। कुछ राज्यों में उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 117, 120B, 153, 153A, 295A, 298, 500, 504, 505, 506 और इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट 2000 की धारा 1860r/w सेक्शन 66A के तहत मामला दर्ज करा दिया गया है।

उच्चतम न्यालय में दी चुनौती

उच्चतम न्यालय में एक याचिका दायर का अर्नब गोस्वामी ने उनके खिलाफ 6 अलग अलग राज्यों में दायर 16 मुकदमो को चुनौती दी है जिसकी सुनवाई कल सुबह 10.30 न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति आर शाह की खंडपीड विडिओ कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिए सुनवाई करेगी।

उत्तर प्रदेश में संत की मृत्यु

एक तरफ भाजपा द्वारा महाराष्ट्र सरकार पर संतों के हत्यारों को बचाने के आरोप लग रहें है वहीं कांग्रेस ने भाजपा पर उत्तर प्रदेश में संत ज्ञान स्वरूप सानंद पर पुलिस द्वारा दुर्व्यवहार का आरोप लगाकर अपनी हिन्दू विरोधी छवि को बचाने की कोशिश कर रही है। यह ट्वीट आज उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने सोनिया गाँधी की भाजपा द्वारा हिन्दू विरोधी छवि बनाये जाने के जवाब में जारी किया।

Advertisement

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें