होम फिल्मी खबरें अमिताभ बच्चन की ABCL ने उड़ा दिया देवालु: इन 5 उत्पादों ने...

अमिताभ बच्चन की ABCL ने उड़ा दिया देवालु: इन 5 उत्पादों ने सुपरस्टार को गद्दी से उठाकर फर्श पर ला दिया

बॉलीवुड के बादशाह अमिताभ बच्चन का आज 80वां जन्मदिन है। बॉलीवुड में BIG B के नाम से मशहूर अमिताभ बच्चन ने अपने करियर में तमाम उतार-चढ़ाव देखे हैं। एक समय ऐसा भी आया जब उन्हें दिवालिया घोषित कर सड़कों पर उतारा गया। यह सब सिर्फ ABCL की वजह से हुआ, जिस कंपनी को उन्होंने बनाया था। उनकी यह कंपनी उनके 5 प्रोजेक्ट्स की वजह से ही डूब गई थी। इस रिपोर्ट में हम आपको ABCLकी स्थापना से लेकर उसके अंत तक की कहानी पेश करते हैं।

इस कंपनी का गठन 1996 में हुआ था

ABCL यानी अमिताभ बच्चन कॉर्पोरेशन लिमिटेड कंपनी की नींव साल 1996 में रखी गई थी। यह अमिताभ बच्चन का पहला कॉर्पोरेट वेंचर था। उनका सपना इस कंपनी के राजस्व को वर्ष 2000 तक 1000 करोड़ रुपये तक बढ़ाने का था। हालांकि, उनके कई फैसले गलत निकले और कंपनी चरमरा गई और बिग बी को दिवालिया घोषित कर दिया गया।

कंपनी को 60 करोड़ रुपये में जुटाया गया था।

आपको बता दें कि बिग बी ने 60.52 करोड़ रुपये खर्च कर ABCL कंपनी की स्थापना की थी। उनका सपना इस कंपनी की मदद से विभिन्न प्रकार के सिनेमा को एक मंच प्रदान करना था। कंपनी ने पहले साल में 15 करोड़ का मुनाफा कमाया। हालांकि, एक सफल शुरुआत के बावजूद, कंपनी के कई प्रोजेक्ट विफल हो गए। तो कंपनी 3. 70.82 करोड़ का नुकसान हुआ।

इस परियोजना के कारण ABCL डूब गया

हम आपको उन 5 परियोजनाओं से परिचित करा रहे हैं जिनसे ABCL कंपनी को गंभीर नुकसान हुआ है। इससे अमिताभ बच्चन दिवालिया घोषित हो गए और उनके दरवाजे पर लेनदारों की लाइन लगनी शुरू हो गई। 2013 में एक इंटरव्यू के दौरान अमिताभ बच्चन ने उस दौर का जिक्र किया था।

मिल वर्ल्ड शो: ABCL ने बैंगलोर में गाला मिस वर्ल्ड शो का आयोजन किया। इस शो की वजह से कंपनी आर्थिक संकट में फंस गई थी। स्थिति तब और खराब हो गई जब कंपनी अपने कर्मचारियों और शो में शामिल लोगों को भुगतान नहीं कर पाई। साथ ही शो को वह सफलता नहीं मिली जिसकी उसे उम्मीद थी।

ABCL के बैनर तले निर्मित

अमिताभ बच्चन की फिल्म मुत्युदाथा बुरी तरह फ्लॉप हुई थी। ऐसे में कंपनी को भारी नुकसान उठाना पड़ा।

सात रंग के सपने : सभी गिगी कलाकार

और प्रियदर्शन की हाइप के बावजूद फिल्म उम्मीदों पर खरी नहीं उतर पाई। इससे कंपनी का आर्थिक संकट और बढ़ गया।

ए वी बेबी, द म्यूजिक एल्बम: दिस एल्बम

यह दर्शकों के साथ तालमेल बिठाने में असफल रही। इसके कारण परियोजना अपनी लागत के अनुसार कमाई नहीं कर सकी।

Advertisement

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें